अपने आप में सुधार कैसे करें?

आज कल की बिजी लाइफ मैं औरतो को जादा से जादा वक्त अपने काम पर ही दे न पड़ता है. उनको दो प्रकार के काम होते है. एक मतलब घर का काम और वो संभलकर करने पड़ने वाला बहार का काम. जो आज कल जरुरी है. क्यू की किसी एक के कमाई से घर चलाना मुश्किल हो गया है. और ईए के लिए आज कल की जादा तर ओरते घर और अपने प्रोफेशन मैं बिजी हो गयी है. पर एस वजा से उनको अपने खुद के लिए वक्त नहीं मिलाता. मैं आज कल की औरतो को यही बताना चाहती हु के अपना वेट कैसे कम करे. अपने आपका स्किन. फेस. और हेयर का कैसे ख्याल रखे. और अपनी फैशन को कैसे सुधारे.

अपना वेट कम कैसे करे?

आज कल की बिजी लाइफ मैं एक्स्ससाइज़ के लिए जादा वक्त नहीं मिलाता. ऐसे मैं अपने वजन को कम करना बहोत ही मुश्किल हो गा या है. और आज कल की लाइफ स्टाइल मैं लोग जादातर बहार के जंक फ़ूड को खाकर. ओफ्फिस मैं पूरा दिन खुर्सी पर बैठकर बिताते है. तो एन दोनों वजहों से वजन बढाता है. और उस बढे हुए वजन को कम करने के लिए लगाने वाली एक्स्सेसिसे के ली ये लोगोके पास वक्त नहीं है. जंक फ़ूड खाने की भी यही वजह है के घर का खाना बना कर ले जाना बिजी शेदूल की वजह से मुश्किल हो गया है. ईस लिए आज कल लोग क्विक और जल्दी बनाने वाला खाना. याने की माँगी. पास्ता. सैंडविच पसंत करते है और ये भी न बना पाए तो बहार गली गली मैं जंक फ़ूड सस्ते दाम मैं मिलाता ही है. सो वो खाकर अपना गुजरा करते है. एस वजह से. वजन का बढ़ाना तो जाहिर है.

और जहा लोगो को बिजी लाइफ की वजह से सोने को नहीं मिलाता. वहा पे रनिंग. जॉगिंग. जिम जाना. या फिर किसी भी तरह की एक्स्सेर्सिसे मुश्किल ही है. तो फिर वेट कैसे कम करे इसिका इकाही उपाय है के अपने खाने को नियत्रण मैं  लाये. खाने को नियंत्रण मैं लाना इसका ये मतलब बिलकुल नहीं के आप कुछ न खाते हुए अपनी भूक को मारे. इसा बिलकुल ही नहीं. और अगर कोई इसा कर भी रहा है तो मैं यहाँ बताना चाहूंगी के. एसा करने से कभीभी वेट कम नहीं होता. ईसलिए आपको सबसे पहेले अपने खाने का रूटीन बनाना चाहिए. जैसे की आप का खाने का नोर्मल रूटीन हो ता है के ब्रेकफास्ट. लंच. और डिनर. तो बस इसीको हमें कुछ और हिसो मैं एडजस्ट करना है.

मेरे कहेने का मतलब है के तिन टाइम खाने को आप छे टाइम खाने मैं बदलिए. मल्तलब ये हे के कुछ भी हो जाये आप को आपका ब्रेकफास्ट कभी स्किप नहीं करना चाहिए . भले कभी आपको न खाना हो तो आप आपका डिनर स्किप कर सकते है पर आपको आपका ब्रेकफास्ट कभी भी स्किप नहीं करना है. तो स्टार्ट करे आपका दिन ग्लास ऑफ़ जूस से . जूस जो की ताज़ा फ्रूट्स से बना हो और जो की शुगर लेस है. जादातर को घर मैं फ्रेश बनाकर ही पिए. बहार के जूस मैं शुगर और प्रेज़ेर्वतिवेस होते है तो इसे जूस को न पिए. और अगर आपको अपना दिन जूस से शुरू करने के आलावा आपको चाय. या कॉफ़ी से अपने दिन की शुरुआत करने की आदत है तो  चाय या कॉफ़ी पिने के बाद इक घंटे के बाद जूस पिए. जादातर मैं कहूँगी की चाय या कॉफ़ी से दिन की शुरुवात करना अच्छा नहीं. ईसलीई आदते जीतनी जल्दी बदल पायेगे उतना ही अच्छा है.

तो इक ग्लास जूस पिने के दो घंटे बाद आप अपना ब्रेकफास्ट करे. अगर आप क्विक ब्रेकफास्ट चाहते है तो वाइट ब्रेड की जगह ब्राउन ब्रेड खाकर अपना ब्रेकफास्ट हेल्ति बना सकते है. जादातर अपने खाने को छे हिस्सों मैं बाटकर और उन्हें मैं हेलथी फ़ूड खाकर आप आपका वजन बिना एक्स्सर्सिज़ के भी कम कर सकती है . तो जूस और छोटे ब्रेकफास्ट के तिन घंटो बाद आपको लंच लेना है. लंच ये हमेश से पूरा होना चाहिये. लंच मई आप एक  बाउल सलाड. एक बाउल दाल या फिर सब्जी. दो चपाती और थोडा ब्राउन राइस खा सकते है. वाइट राइस के बदले ब्राउन राइस खाया कीजिये. उसके बाद तकरीबन चार से पाच के बिच आप स्मोल इवनिंग स्नैक कर सकते है. उसमे आप फिर से एक ग्लास जूस. या फिर. फ्रूट प्लात्टर. एक ब्राउन ब्रेड विथ लो फैट चीज़ खा सकते है. जूस के जगह आप बिना शुगर वाला मिल्कशेक भी पि सकते है.

उसके बाद रात को आपको आठ बजे तक या हो सके तो शाम को सात से आठ बजे तक अपना डिनर फिनिश करना है. जेसे हम लंच हैवी लेते है वैसे ही डिनर हमेशा से ही हलका होना चाहिए. डिनर मैं आप चिकन.या फिर फिश करी के साथ रोटी. या फिर राइस खा सकते है. जादा कर  ग्रिल्ड फिश. या फिर ग्रिल्ड चिकन खाए. उस मैं प्रोटीन जादा होता है और उसमें तेल भी कम लगता है. अगर आप वेजिटेरियन है तो बाउल ऑफ़ वेज और बाउल ऑफ़ सलाड के साथ रोटी या फिर राइस खाए. ध्यान मई रखे के रात के आठ बजे के बाद आपको कुछ नहीं खाना है. ये बहोत ही महत्वपूर्ण है के रात के आठ बजे तक आप का डिनर हो जाना चाहिए. और डिनर के तिन घंटे बाद ही आपको सोना है. एस वज़ह  से सोने के पहेले ही आपका खाना हजम होता है. चाहे तो डिनर के बाद आप कुछ वोक ले सकते है. एसा करना बहोत ही हेलथी रहता है. एसा करने से आपका खाना हजम करने को मदत होती है. तिन घंटे के बाद आप सोने से पहेले एक एप्पल या फिर एक ग्लास ऑफ़ मिल्क ले सकते है .

तो एस तरह से आप को आपका खाना छे हिस्सों मैं बटाना है और जादा से जादा आप लो फैट कैसे खा सकते है. प्रोतिने जादा से जादा कैसे ले सकते है खाने मैं ये सोचना चाहिए. अगर एस शेदुल  के बिच अगर आप को भूक लगी तो उसे न मरते हुए आप बादाम याने अल्मोंड्स और वाल्नुट्स खा कर आपनी भूक कम कर सकते है. और एन सब के बिच सबसे जादा जरुरी होने वाली चीज़ ये है के आप कम से कम आठ गिलास ऑफ़ वाटर आपको पीना ही चाहिए. याद रा  है के पानी पिने से आप हेअलथी रह सकती है. और इससे आपके वेट कम होने मई भी मदत मिलेगी.

आपके स्किन फेस और हेयर का ख्याल कैसे रखे?

स्किन

आपके बॉडी स्किन बहार की वातावरण के बजेसे हमेशा ही लाधाती रहती है. बहार के वतावर मई होने वाली द्र्यनेस आपके स्किन पर आकर उसे रुखी सुखी बना देती है. और एस वजह से आप हमेशा अपनी त्वचा फूटी रुखी सुखी पाएंगे. स्किन केयर मई सबसे जरुरी है मोश्चरिज़. हमेशा अपनी स्किन को मोश्चरिज़ करे. अपने हात और पैर को सबसे जादा मोश्चरिज़ करे क्यू की वो काम और चलने की वजह से ज्यादा ड्राई रहते है. तो हमेशा सुभे बाथ के बात अपने पूरी बॉडी को मोश्चरिज़ करे.

अगर आपको बहार जाना है तो बहार जाने से कम से कम आधा घंटा पाहिले मोश्चरिज़ करे एसा करना जरुरी है नहीं तो बहार की धुल आपके स्किन पर आकर उसे चिपक जाएगी और ये आपके स्किन के लिए हार्मफुल है. और दूसरी महेतवा पूर्ण बात है की जो आपकी स्किन बहार जाते वक्त सूर्य के प्रकाश मैं एक्स्पोस होगी उस स्किन को सनस्क्रीन लगाना बहोत जरुरी है सो बहार जाते समय सनस्क्रीन भी ट्वेंटी मिनिट पहेले लगाये. अगर आप बहर मिलाने वाले सनस्क्रीन के केमिकल पसंत नहीं करते या फिर वो आपकी स्किन को सूट नहीं करते तो आप उस बदले कोकोनट तेल भी लगा सकते है. कोकोनट तेल नेचुरल सनस्क्रीन है. उसमें ८% SPF है.

और अगर आप बहार मिलाने वाले सनस्क्रीन पसंत करते है तो नार्मल डेज के लिए SPF १५ इस्तमाल करे. और गर्मी मैं SPF ३० इस्तमाल करे. स्किन को आप बहार से मोश्चरिज़ कर सकते है. लेकिन हेलथी स्किन के लिए आप को उसे अंदर से हाइड्रेट रखना बहोत जरुरी है. और उस लिए आपको कम से कम आठ ग्लास पानी दिन भर मई पीना ही चाहिए. इससे आप हेअलथी और पिम्पल लेस स्किन का आनद लेंगी.

फेस

आपना चेहरा खुबसूरत हो ये किस को नाही लगता?? मुजे नहीं लगता एसा कोई भी होगा. हर एक की ख्वाइश होती है के अपने आप को खुबसूरत रखे. अपना फेस सुंदर दिखे. इसके लिए मैं यहाँ बताना चाहूंगी के अपने चहरे को केसे मेन्टेन करे. फेस को वीक मैं दो बार तो स्क्रब करना जरुरी है. स्क्रूबिंग से आपकी डेड स्कीन निकल जाती है और आपका चेहरा खिल उठता है. स्क्रूबिंग बाद आता है क्लींजिंग ये तो आपको रोज ही उठाने के बाद करना है. बहार जाते समय. बहार से आते समय. और हेर रोज रात को सोने से पहेले क्लींजिंग करना जरुरी है. क्लींजिंग के बाद आता है टोनर. फेस को टोइंग करना का मतलब है फेस को पोषण देना. और उसके बाद आता है मोश्चरिज़. उस मोश्चरिज़ से आपकी स्क्रब कियी हुए और क्लीन किये फेस की त्वचा मुलायम होती है.

आज कल के मोश्चरिज़ मैं ही SPF आता है अगर आप के मोश्चरिज़ SPF नहीं है तो फिर आपको मोश्चरिज़ के बाद सनस्क्रीन लगाना चाहिए. अगर आप घर से बहार जा रहे है तो फेस को सनस्क्रीन की बहोत जरुरत है नहीं तो आपको टैनिंग का सामना करना पड़ेगा. जिससे आप की त्वचा कलि होजा ती है. इसीलिए सनस्क्रीन उपयोगी है. अगर आप फेयरनेस क्रीम लगाती है तो आज कल कुछ फेयरनेस क्रीम मैं भी SPF आता है सो फिर आपको सनस्क्रीन की आवशकता नहीं. और अगर आपके फेयरनेस क्रीम मैं SPF नहीं है तो आप सनस्क्रीन के बाद फेयरनेस क्रीम लगाये . मेरे ख्याल से आपको फेयरनेस क्रीम लगाने की आदत हो तो ऐसाही फेयरनेस क्रीम लो जिसमें SPF है. अपने फेस को जादा से जादा केमिकल से दूर रखना भी जरुरी है. इसलिए आप सनस्क्रीन के जगह आप कोकोनट तेल लगा सकते है.

और फेयरनेस क्रीम की जगह आप क्लींजिंग के पहेले और स्क्रबिंग के बाद हलदी. चंदन. और दूध की मलाई से अपने चहरे को मसाज कर सकते है. एसा करने से आपको फेयरनेस क्रीम की जरुरत नहीं रहेगी और ये नेचुरल है. और अक महत्वा पूर्ण बाद यद् रखिये के कभीभी मेकअप किया हुआ चेहरा प्रॉपर क्लीनिंग करके और मोश्चरिज़ करने के बाद ही सोने को जाये. मेकअप न क्लीन करके ही सोना ये आपके फेस के लिए सबसे हानिकारक है. और आप हाइड्रेट रहे तो ये आपके फेस के लिए भी बहोत उपयोगी है.

 हेयर

बालो के बहोत सारे प्रॉब्लम मैं ने सुने है . जेसे के आप क्या फैशन करते है ये आपका सेंस ऑफ़ फैशन और आपकी टेस्ट आपका नेचर बताता है वैसे ही घने और आछे बाल ये आपकी इनर हेल्थ बताता है. जी आपने ठीक सोचा हेल्थी बाल ये सिर्फ आछे शैम्पू और कंडीशनर से नहीं मिलते उनके लिए हेल्थी खाना भी जरुरी है. ग्रीन वेजिटेबल आपको जादा मदत करते है. और फाइबर और प्रोटीन. आयन से भरा खाना आपको आछे बाल देता है. कुछ लोग इसके लिए स्पिरुलिना जेसे फ़ूड सुप्प्ल्मेंट भी लेते है.

ये तो हुई आपकी इनर हेल्थ और बाहरी हेल्थ के लिए आपको सबसे जरुरी है के वीक मैं दो बार तो हॉट ओइल मसाज हो न ही चाहिए. वीक मैं तिन बार शैम्पू से बालो को अच्छी तरह से धोये और कंडीशनर करे. हमेशा यद् रखे के बलोको धोने से पहेले उनको ओइल करना जरुरी है. आज कल जो हेयर SPA निकले वो भी आच्छे है महीने मैं तिन बार आप हेयर SPA के लिए जा सकते है. अगर आपके पास SPA जाने का पैसा नहीं है तो आप घर मैं ही हॉट आयल से हेड मसाज कर सकते है. बालो के लिए दही. एग वाइट लगाना अच्छा रहता है. बालोके शाएन के लिए आप अलोवेरा का गर लगाके आधा घंटा रखके बाल धोये करे तो अच्छी शाएन आ सकती है. बाल के शाएन के लिए बियर भी लगते है. बालो के ग्रोथ के लिए महीने मैं एक  बार बालो को ट्रिम करना जरुरी है. एसा करने से बाल आछे बढ़ाते है.

बालो को ब्लो ड्राई करना आच्छी बात है. पर बालो को स्त्रेटिंग के लिए या फिर कर्ल्स के लिए बार बार आयन करना आच्छा नहीं. जादा कलरिंग करना भी बालो के लिए हार्मफुल है.

 अपने फैशन को कैसे सुधारे?

फैशन का मतलब ये नहीं की मार्किट मई आरही कपड़ो की शौपिंग करो और उसे पहेनो. फैशन इक आर्ट है एक कला है. फैशन अपने आपको जानने मैं है. अपने आपको जानकर अपने बॉडी को जानकर उसे क्या आच्छा लगे गा ये समाज ने मैं है. याद रखे जो कपड़ा जो क्लॉथ आपके सहेली पर आच्छा  लगता है. वो आपपर भी जचेगा एसा कुछ नहीं है. हर एक की शारीर की रचना आलग है. तो अपने आपको समजा न अपने आपको क्या आच्छा लगता है. किस ड्रेस मैं आप जादा कम्फर्ट होते है. किस मैं आपको सबसे जादा कोम्प्लेमेंट्स मिलाती है ये देखना फैशन है. फैशन मैं सबसे जरुरी है आपका कॉन्फिडेंस आपका कम्फर्ट लेवल.

अगर आपने पहेना हुआ क्लॉथ मैं आप कोम्फोर्ताब्ले हो तो वो ड्रेस पेहेनेका कॉन्फिडेंस और उसमें आपने आपको प्रेजेंट करना फैशन है. एसा करके फैशन  करने का कॉन्फिडेंस तो आप मैं आ ही जाता है. और फिर आप उस ड्रेस मैं खुबसूरत दिखने लगते है. फैशन मैं कॉन्फिडेंस भी महत्वपूर्ण है आपका कॉन्फिडेंस आपको किसी भी सिंपल से क्लॉथ मैं भी खुबसूरत बना सकता है. फैशन का मतलब ये भी नहीं की क्लॉथ से मचिंग बहोत साडी जेव्ल्लेरी डाले. नहीं फैशन का एक गोल्डन रूल है लेस इस बेटर. सो ये मेकअप. जेव्ल्लेरी पहेने मैं भी आएगा हमेश डिसेंट चॉइस करना ही फैशन है. जेसे की आप को परफेक्ट फिट होने वाला ही ड्रेस पहनना चाहिए. अगर आप जादा लूज ड्रेस पेहेनेगे या फिर अगर आप जादा टाइट ड्रेस पेहेनेगे तो आप अपनी उम्र से बड़े और मोठे लग सकते है. कभीभी आप अगर बंग्लेस पेहेंन रहे हो तो उसी हात मैं आपकी घडी पहेना भी बड़ी फैशन मिस्टेक है.क्यूट सी ब्लैक ड्रेस वोर्द्रोब मई हो भी महत्वा पूर्ण है क्यू की ब्लैक कलर सबपे आच्छा ही दिखता है.

अगर आपका रंग गोरा है तो कोई भी कलर आपपे आच्छा दिखता है आप जादा तर डार्क रंग के ड्रेस आपपे खिल कर दिखेंगे. अगर आप सावाले है तो आप पर सेमी डार्क रंग आच्छे दिखेंगे. और अगर आप का रंग काला है तो आपपे लाइट शेड्स आच्छी दिखेंगी. जेव्ल्लेरी का भी कुछ एसा तरह है की अगर आपने कान मैं बड़ा इयर रिंग पहेना है तो आप गले मैं सिंपल पेहेनना चिहिए. अगर आप गले मैंही बड़ा कुछ डाल रहे है तो इयर रिंग सिंपल होना बेटर दिखता है. चप्पलो के बारे मैं भी एसा ही है. आपका कम्फर्ट लेवल ही सबसे जादा महत्वा पूर्ण है. अगर आप हाई हील मैं खुदको कोम्फोर्ताब्ले नहीं पाते हो तो उनको पेहेनना गलत है. आप सिंपल फ्लिफ्लोप भी पहेने तो आच्छा दिखता है. याद रहे फैशन ये आपका कॉन्फिडेंस. और आपके कम्

फर्ट पर ही निर्भर है. मेकअप करना आची बात है पर वो भी जादा हुआ तो फैशन को पूरा ख़राब कर सकता है. मेकअप भी मिनिमम इस बेटर ये ही फार्मूला है. अगर आप आपके होठो को हाई लाइट करते है मतलब आप डार्क रंग की लिपस्टिक लगते है तो फिर आपको ऑय मेकअप कम करना चाहिए.

और जब आप आय मेकअप जादा करते है आज के ज़माने ऑय को स्मोकी बनाने की फैशन है तो फिर आपको लिपस्टिक पेल मतलब के लाइट लगनी चाहिए. अपने मेकअप मैं फाउंडेशन चुनते वक्त संभलकर चुने . फाउंडेशन आपके चहरे के स्किन के रंग का ही होना चाहिए. तो फाउंडेशन चुनते वक्त अपने फेस का स्किन टोन देखिये. इसतरह आप आपने आप को समाज उमज कर फैशन करे.

%d bloggers like this: